काव्य संकलन - राजवीर त्यागी
    संकल्प, सार्थक एवम अक्षय प्रयास "दिवंगत श्री राजवीर त्यागी की यादो को जीवित रखने का"

परिचय - चरणलाल चरण

जन्म :- २७ जून १९४४ - मृत्यु :- २० अगस्त २०१९

रचनाएँ पढ़े

श्रद्धांजलि

श्रीं चरणलाल चरण जी को श्रद्धांजलि देना सागर का जलाभिषेक करने के सामान है ।
अंकल के निधन से गहरा दुःख हुआ. यह हम सभी के लिए एक अपूरणीय क्षति हैं. ईश्वर दिवंगत आत्मा को शन्ति दे और परिजनों को संबल प्रदान करें. ...
- नगेश त्यागी
पुत्र स्वर्गीय श्री आर एस त्यागी
वसुंधरा , गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश


ख़ालिद शरीफ़ ने ठीक कहा है :

बिछड़ा कुछ इस अदा से कि रुत ही बदल गई
इक शख़्स सारे शहर को वीरान कर गया

आप की रचना - "मुझे जाना है"

मुझे सब छोड़ कर मेरे प्रभु के पास जाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
तेरी चालों में ऐ शैतान अब मैं फंस नहीं सकता
तू कितना फन उठाले किन्तु मुझको डस नहीं सकता
तेरे फन को कुचल कर अब मुझे उस पर जाना है
मुझे मत रोकना मुजको मेरा वादा निभाना है
वो मेरे हर गुनाह और घाव पर मरहम लगता है
मै ठोकर खा के गिरता हूँ तो वह आकर उठाता है
उसी के सामने जाकर यह सिर अपना झुकाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
मै दुनिया के झमेलों में कहीं पर खो गया था
प्रभु की ओर से आँखें चुरा कर सो गया था
मुझे फिर से वही खोया हुआ विश्वास पाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है
वो इतना दींन है मेरा ही रस्ता देखता होगा
वो अपने आंसुओं को आँख में ही रोकता होगा
मुझे जाकरके उसके आंसुओं में डूब जाना है
मुझे मत रोकना मुझको मेरा वादा निभाना है .

चरणलाल चरण - "चरण"